शरद पूर्णिमा : पौराणिक कथा

शरद पूर्णिमा आज: चाँद की चाँदनी में करे ये कार्य

आश्विन मास की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहते हैं।  साल 2015 में यह दिन 26 अक्टूबर को है। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन चंद्रमा की किरणों में अमृत होता है। शरद पूर्णिमा पर चाँद अपनी १६ कलाएं पूर्ण करता है। शरद पूर्णिमा को “कोजागरी” या कोजागर पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। कहा जाता है की शरद पूर्णिमा पर महालक्ष्मी जी  रात को भ्रमण पर निकलती है, यह देखने को की कौन जाग रहा है, जो भी जाग रहा होता है देवी उनके ऊपर अपनी कृपा करती है और जो सो रहा होता है उनके घर में नहीं ठहरती है। लक्ष्मीजी के “को जागर्ति” (कौन जाग रहा है?) कहने के कारण ही इस दिन को कोजागर कहा जाता है।   आज की रात बहुत ख़ास है  और आज की रात निचे लिखे कुछ कार्य करने से आपके बहुत से कार्य सिद्ध हो सकते है। ये है आज की ख़ास रात के ख़ास उपाय 1. जैसा की बताया  था की आज की रात महालक्ष्मी जी रात के  भ्रमण पर निकलती है यह देखने को कौन जाग रहा है।  और […]