shani ki dhaiya aur sarhesati

शनि साढ़े साती से बचने के उपाय व् मंत्र

  शनि देव के प्रकोप  से हम सभी भयभीत रहते है| क्योकि हम सब जानते है की जिस व्यक्ति की कुंडली में सूर्य की राशि में शनि हो उस व्यक्ति को जीवन भर परेशानियों का सामना करना पड़ता है| किसी व्यक्ति की कुंडली में चार, आठ या बारहवें भाव में शनि है तो उस व्यक्ति को शनि की कृपा प्राप्त होती है। परन्तु यदि नीच राशि में या अस्त या वक्री में शनि हो तो दुःख और कष्ट देता है।   जिन जातकों को शनि साढ़ेसाती से परेशानी हो उन्हें निम्न  उपाय करने चाहिए: – 1.शनि मंत्र और पूजा करनी चाहिए निचे दिए गए मंत्र १०८ बार प्रति दिन बोलना चाहिए निलान्जमं समाभासं रविपुत्रम यमाग्रजम | छाया मार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्र्वरम ॥ 2.हनुमान चालीसा को नितय अप्रतिदिन एक बार अवशय करना चाहिए, और हो सके तो हर मंगलवार और शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमानजी को सिन्दूर और चमेली का तेल अर्पित करें। 3.महा मृतुन्जय मंत्र और पूजा करनी चाहिए सिर्फ सुबह उठते ही एक बार मृतुन्जय मंत्र बोलने से लाभ होता है| ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं […]