IF YOU FACING ANY TYPE OF LOVE PROBLEMS, MARRIAGE PROBLEM, FAMILY DISPUTE SO JUST CONTACT US & WE WILL GIVE YOU A SATISFIED SOLUTION & HAPPY LIFE

love marriage astrologer
consult any time

Your Name (required)

Your Email (required)

Mobile No.

Your Message

online Astrology Services

If You Facing Any Problems So Just Contact Pt. Devendra Shastri.
One Call can Change Your Life..
Love Problem Solution, Love Marriage Solution, Get Love Back Solution, Husband Wife Problem Solution, Business Problem Solution, Love Dispute Problem Solution, Divorce Problem Solution, Your All Problem Solution by Astrologer DEVENDRA SHASTRI 100% Privacy & Satisfaction
+91-9558885377

आपकी कुंडली के ये 10 योग बना सकते है आपको करोड़पति

Aapki Kundli Ke ye 10 Yog Bana Sakte Hai Aapko Karodpati

ज्योतिष शास्त्र में ग्रहों की स्थिति एवं भाव विशेष से कुंडली में करोड़पति योग जाना जा सकता है। ज्योतिष ही बता सकता है की किसके भाग्य में कब और कहाँ से धन का भण्डार खुलेगा। आइये जानते है जातक की कुंडली के कुछ योग जो जातक के धनोदय की और संकेत करते है:

गुरु जब दसवें या ग्यारहवें भाव में और सूर्य और मंगल चौथे और पांचवें भाव में हो या ग्रह इसकी विपरीत स्थिति में हो तो व्यक्ति प्रशासनिक क्षमताओं के द्वारा धन अर्जित करता है।

बुध, शुक्र और शनि जिस भाव में एक साथ हो वह व्यक्ति को व्यापार में बहुत उन्नति कर धनवान बना देता है।

गुरु जब कर्क, धनु या मीन राशि का और पांचवें भाव का स्वामी दसवें भाव में हो तो व्यक्ति पुत्र और पुत्रियों के द्वारा अपार धन लाभ पाता है।

मंगल चौथे, सूर्य पांचवें और गुरु ग्यारहवें या पांचवें भाव में होने पर व्यक्ति को पैतृक संपत्ति से, कृषि या भवन से आय प्राप्त होती है, जो निरंतर बढ़ती जाती है। इसे करोड़पति योग कहते हैं।

बुध, शुक्र और गुरु किसी भी ग्रह में एक साथ हो तब व्यक्ति धार्मिक कार्यों द्वारा धनवान होता है। जिनमें पुरोहित, पंडित, ज्योतिष, कथाकार और धर्म संस्था का प्रमुख बनकर धनवान हो जाता है।

दसवें भाव का स्वामी वृषभ राशि या तुला राशि में और शुक्र या सातवें भाव का स्वामी दसवें भाव में हो तो व्यक्ति विवाह के द्वारा और पत्नी की कमाई से बहुत धन पाता है।

कुंडली के त्रिकोण घरों या केन्द्र में यदि गुरु, शुक्र, चंद्र और बुध बैठे हो या फिर 3, 6 और ग्यारहवें भाव में सूर्य, राहु, शनि, मंगल आदि ग्रह बैठे हो तब व्यक्ति राहु या शनि या शुक्र या बुध की दशा में असीम धन प्राप्त करता है।

शनि जब तुला, मकर या कुंभ राशि में होता है, तब अकाउंटेंट बनकर धन अर्जित करता है।

यदि सातवें भाव में मंगल या शनि बैठे हों और ग्यारहवें भाव में शनि या मंगल या राहु बैठा हो तो व्यक्ति खेल, जुआ, दलाली या वकालात आदि के द्वारा धन पाता है।

यदि सातवें भाव में मंगल या शनि बैठे हो और ग्यारहवें भाव में केतु को छोड़कर अन्य कोई ग्रह बैठा हो, तब व्यक्ति व्यापार-व्यवसाय के द्वारा अतुलनीय धन प्राप्त करता है। यदि केतु ग्यारहवें भाव में बैठा हो तब व्यक्ति विदेशी व्यापार से धन प्राप्त करता है।

1 Comment

  • Ajeet kumar says:

    I would like to confirmed that 5th house lord and 9th house lord .if there conjucted any of house in kundali person get great wealth is that true.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest Updates for Astrology